Breaking News

लोकायुक्त की बड़ी कार्रवाई, रिश्वत लेते डिप्टी लेबर कमिश्नर का दलाल गिरफ्तार दीक्षित को किया निलंबित

देवराज सिंह सिकरवार
लोकायुक्त की बड़ी कार्रवाई, रिश्वत लेते डिप्टी लेबर कमिश्नर का दलाल गिरफ्तार
दीक्षित को किया निलंबित
भोपाल ,20 जून .मध्यप्रदेश में लगातार लोकायुक्त की कार्रवाई जारी रहने के बावजूद सरकारी अधिकारियों द्वारा किए जा रहे भ्रष्टाचार और रिश्वतखोरी में कमी नहीं आ रही है। आये दिन भ्रष्टाचार में संलिप्त अधिकारी रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किये जा रहे हैं। इसी बीच को डिप्टी लेबर कमिशनर एस.एस. दीक्षित के मीडिएटर विपुल शर्मा को लोकायुक्त ने रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा। जहाँ डिप्टी कमिश्नर ने उसे रिश्वत लेने भेजा था लोकायुक्त ने पैसे लेने एमपी नगर में बुलवाया था। जिसके बाद भोपाल क्राइम ब्रांच थाने के पास सड़क पर ही लोकायुक्त ने कार्रवाई की है।
मिली जानकारी के अनुसार मुंबई में रहने वाले गौरव शर्मा ने भोपाल लोकायुक्त को डिप्टी कमिश्नर की शिकायत की थी। उन्होंने कहा था क़ि उनकी फर्म ए स्तार इंदौर के पास श्रमोदय विद्यालय, बेटमा की मेस का ठेका है। जिसमें करीबन 800 बच्चों का हॉस्टल है। वहीँ मेस के लिए15 लाख के बिल का भुगतान किया जाना था। जिसको लेकर शर्मा ने डिप्टी कमिश्नर दीक्षित से बात की थी। लेकिन बात नही बनी बाद मे डिप्टी कमिश्नर ने 15 लाख के बिल के भुगतान के लिए उनसे दलाल विपुल शर्मा के जरिए डेढ़ लाख रुपए की रिश्वत मांगी थी। वहीँ रिश्वत न देने पर देयक का पेमेंट रोक देते की धमकी भी दी थी। जिसके बाद लोकायुक्त पुलिस ने इस शिकायत पर मामले की जांच करने के बाद पुखता कार्रवाई की तैयारी की।
जिसके बाद लोकायुक्त पुलिस के कहने पर फरियादी गौरव शर्मा ने रिश्वत की पहली किस्त के तौर पर एक लाख रुपए देने के लिए विपुल शर्मा को क्राइम ब्रांच थाने के पास एमपी नगर बुलाया। जब डिप्टी लेबर कमिश्नर का दलाल विपुल शर्मा रिश्वत के पैसे लेने पहुंचा तो पहले से घेराबंदी कर बैठी लोकायुक्त पुलिस की टीम निरिक्षक संजय शुक्ल की अगुवाई मे रिश्वत लेते हुए उसे रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया। वहीँ लोकायुक्त ने मीडिएटर के साथ ही डिप्टी लेबर कमिश्नर दीक्षित को भी आरोपी बनाया है।अब पुलिस इस रिश्वत कांड के बारे में उनसे पूछताछ करेगी। बता दें कि डिप्टी लेबर कमिशनर एस.एस. दीक्षित एम.पी. भवन संघ निर्माण मंडल में सचिव भी है।
विपुल भी मेस का ठेकेदार
यह भी जानकारी मिली है की रिश्वत के लेनदेन में मध्यस्थता कर रहे और पकड़े गए विपुल शर्मा ने कुछ ही वर्षों में अनुपात हीन संपत्ति अर्जित की है। वे खुद कर्मकार मंडल के भोपाल ग्वालियर सहित कई श्रमोदय विद्यालय में मेस का ठेका चलाते हैं। कांग्रेस शासनकाल में वे अधिकतर श्रम मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया के बंगले में दिखाई देते थे और मंत्री के निजी स्टाफ से भी उनके गहरे तालुकात रहे।
जुटाई जा रही संपत्तियों की जानकारी
आरोपी डिप्टी लेबर कमिश्नर की धर्मपत्नी रीना दीक्षित मध्य प्रदेश महिला कांग्रेस में सचिव हैं। इसी को लेकर आरोपी दीक्षित के कई कांग्रेस नेताओं से अच्छे संपर्क बताए जाते हैं और उन्हें भोपाल में कई मलाई वाले पोस्टिंग भी मिलती रही है। एक अन्य जानकारी के अनुसार एसएस दीक्षित के नाम उत्तर प्रदेश मध्य प्रदेश और बिहार में कई मकान दुकान प्लाट और कृषि भूमि दर्ज है। उनकी पत्नी और कांग्रेस नेत्री रीना दीक्षित के नाम शक्ति नगर भोपाल में 3000 वर्ग फीट पर निर्मित सर्व सुविधा युक्त दो मंजिला मकान है जिसमें पुनरुत्थान जन कल्याण समिति नाम का एनजीओ भी संचालित है। इसी तरह राज होम्स में 3000 वर्ग फीट का बंगला नोएडा में डिप्टी लेबर कमिश्नर के नाम 26 वर्ग फीट का फ्लैट अवधपुरी भोपाल में 16000 वर्ग फीट का प्लॉट जतावाली बिहार में 20 एकड़ कृषि भूमि एवं अन्य प्रॉपर्टी संयुक्त परिवार के नाम भोपाल में 2 प्राइवेट स्कूल सहित कई अन्य संपत्ति का पता चला है। जिसको आने वाले दिनों में जांच के दायरे में शामिल किया जा सकता है।
दीक्षित निलंबित
आज रविवार अवकाश के दिन होने के बावजूद मध्य प्रदेश शासन के श्रम विभाग ने रिश्वत कांड के आरोपी डिप्टी लेबर कमिश्नर एस एस दीक्षित को निलंबित कर दिया है निलंबन काल में उन्हें श्रमआयुक्त कार्यालय इंदौर अटैच किया गया है। श्रम मंत्रालय के अपर सचिव हूं माल सिंह की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि 1 लाख रु रिश्वत मांगने और लेने के गंभीर कृत्य में लिप्त होने तथा आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ भोपाल में कौशल विकास प्रशिक्षण एवं प्लेसमेंट योजना में भ्रष्टाचार की शिकायत एवं कर्मकार कल्याण मंडल में पदस्थापना के दौरान की गई वित्तीय अनियमितताओं की जांच प्रक्रियाधीन होने के कारण उन्हें तत्काल प्रभाव से निलंबित किया जाता है।
0 रिश्वत के रुपए लेते पकड़े गए मध्यस्थ विपुल शर्मा को पूछताछ और जरूरी कार्रवाई के बाद जमानत पर रिहा कर दिया गया है। डिप्टी लेबर कमिश्नर की तलाश की जा रही है। आज अवकाश होने के कारण वे ठिकाने पर नहीं मिले। आगे की कार्रवाई के लिए दोनों आरोपियों और उनके परिजनों के आय के स्रोतों एवं संपत्तियों की जानकारी जुटाई जा रही है।
–मनु व्यास एसपी लोकायुक्त पुलिस भोपाल

Check Also

बीना-रेलवे-ट्रेक-पर-एक-इंजन-दूसरे-से-भिड़ा,-ट्रेक-पर-एक-के-पीछे-एक-दौड़ने-लगे,-कर्मचारी-भी-पीछे-दौड़े,-ट्रेक-के-एंड-पाइंट-को-उखाड़-फेंका

बीना रेलवे ट्रेक पर एक इंजन दूसरे से भिड़ा, ट्रेक पर एक के पीछे एक दौड़ने लगे, कर्मचारी भी पीछे दौड़े, ट्रेक के एंड पाइंट को उखाड़ फेंका

🔊 Listen to this मध्यप्रदेश के बीना से गुना की तरफ जाने वाले रेलवे ट्रेक …