Breaking News
पहले-दिन-गांधीगिरी-के-बाद-दूसरे-दिन-पुलिस-की-सख्ती;-'मैं-कोरोना-फैलाना-चाहता-हूं,-मैं-घर-पर-नहीं-रहूंगा'-लिखा-पर्चा-देकर-फोटो-खिंचवाई

पहले दिन गांधीगिरी के बाद दूसरे दिन पुलिस की सख्ती; 'मैं कोरोना फैलाना चाहता हूं, मैं घर पर नहीं रहूंगा' लिखा पर्चा देकर फोटो खिंचवाई


होशंगाबाद/हरदा/बैतूल. होशंगाबाद समेत संभाग के बैतूल और हरदा जिलों में 21 दिन के लॉक डाउन के पहले दिन मंदिरों की चौखट सूनी रही। वहीं, सड़कों पर सन्नाटा रहा, बाहर निकालने वालों पर पुलिस सख्ती कर रही है। होशंगाबाद की बनखेड़ी में मुंबई से लौटी एक लड़की को कोरोना संदिग्ध बताया गया, उसे जांच के लिए होशंगाबाद रेफर किया गया है। लड़की के सैंपल जांच के लिए भेजे गए जा रहे हैं। इधर, बैतूल में मंगलवार को जहां पुलिस ने लोगों को समझाने के लिए गांधीगिरी की थी, वहीं आज उन्होंने घर से बाहर निकलने वालों को पहले डंडों से धुना, इसके बाद हाथ में पर्चा पकड़ाया। इसमें लिखा था- “कोरोना फैलाना चाहता हूं, मैं घर पर नहीं रहूंगा।” वहीं, हरदा के टिमरनी की मंडी और स्टोर में आने वाले लोगों के लिए मार्किंग की गई है। पुलिस ने घर से निकलने पर यहां भी लोगों की उठक-बैठक लगवाई और उन्हें वापस घर भेज दिया।

घर से बाहर निकलने वालों पर सख्ती की गई।

बैतूल में 21 दिन के लॉक डाउन का असर देखने को मिला। मंदिरों के दर पर सन्नाटा था और सड़के सूनी रहीं। जो भी व्यक्ति लॉक डाउन में सहयोग नहीं कर रहा है और घर से बाहर निकलकर कानून तोड़ रहा हैं। उन सभी लोगों की धुनाई की गई। इसके बाद उनके हाथ में पम्फलेट देकर उनकी फोटो खिंचवाई गई। पर्चे में लिखा है- “मैं कोरोना फैलाना चाहता हूं, मैं घर पर नहीं रहूंगा।” इसके बाद हिदायत दी गई कि अगर वह फिर से घर से बाहर निकले और सड़कों पर दिखाई दिए तो कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

बैतूल में कोयलांचल पाथाखेड़ा में काम करने वाले कर्मचारियों के कार्ड चेक किए गए।

खदानों में काम पर जाने वालों के चेक किए आईडी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को रात 12 बजे से संपूर्ण देश में लॉक डाउन आगामी 21 दिनों तक बढ़ाने को कहा था, उसके बाद से पुलिस, नगर पालिका, स्वास्थ्य विभाग ओर भी सख्त तो हो चुका है। पुलिस ने कोयलांचल नगरी पाथाखेड़ा के मस्जिद चौक और अन्य चौराहों पर खदान में काम पर जाने वाले कर्मचारियों की आईडी कार्ड चेक किए गए। ताकि कोई भी व्यक्ति बिना किसी कारण के बाहर ना घूम सके। वहीं, पुलिस ने सारनी, पाथाखेड़ा, बगडोना, कालीमाई में लगातार गश्त करके लोगों को घर से बाहर न निकलने की सलाह दी जा रही है। अन्यथा उन पर कार्रवाई भी की जा सकती है।

जसवंत के पिता की मौत हो गई है, लेकिन वह जा नहीं पा रहे हैं।

पिता की मौत की सूचना आई, बेटा टिमरनी में हार्वेस्टर लेकर फंसा
हरदा और जिले की टिमरनी की मंडी और स्टोर में आने वाले लोगों के लिए मार्किंग की गई है। पुलिस ने घर से निकलने पर यहां भी लोगों की उठक-बैठक लगवाई और उन्हें वापस घर भेज दिया। रोजी-रोटी कमाने हार्वेस्टर लेकर गेंहू और चने की फसल काटने अंबाला से आए जसवंत के पिता महेंद्र सिंग (83) की मौत की सूचना मिली है, लेकिन उन्होंने हालात को देखते हुए अंबाला नहीं जाने का फैसला किया है। जसवंत अपने दो और भाईयों संतोक सिंग, सुरेंदर सिंग के साथ आए हैं। जबकि दो भाई अंबाला में हैं। कोरोना महामारी को देखते हुए नहीं जाने का फैसला किया है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


बैतूल में पुलिस ने बुधवार को सख्ती की और लोगों को पोस्टर थमाए।


हरदा के टिमरनी में किराना स्टोर में मार्किंग की गई है, जहां खड़े होकर ही लोगों को सामान दिया जा रहा है।

Check Also

22-नए-कंटेनमेंट-एरिया,-संख्या-बढ़कर-63-हुई,-यहां-आने-जाने-पर-पूरी-रोक

22 नए कंटेनमेंट एरिया, संख्या बढ़कर 63 हुई, यहां आने-जाने पर पूरी रोक

🔊 Listen to this कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़ने के साथ ही प्रशासन ने …