Breaking News

धार्मिक उल्लास से मनी बड़े दादाजी की बरसी, २० हजार से अधिक श्रध्दालुओं ने किए दर्शन

मनोज जैन बीड
धार्मिक उल्लास से मनी बड़े दादाजी की बरसी, २० हजार से अधिक श्रध्दालुओं ने किए दर्शन

खंडवा। प्रतिवषार्नुसार इस वर्ष भी दादाजी धाम पर बड़े दादाजी की बरसी धार्मिक उल्लास के साथ मनाई गई। इस अवसर पर देशभर से बड़ी संख्या में श्रद्धालु दादाजी धाम पहुंचे और पूजन दर्शन किया। साथ ही श्रद्धालुओं ने बड़े दादाजी को चादर भेंट कर नैवेद्य लगाया। दादाजी धाम पर बरसी के अवसर पर पूरे मंदिर प्रांगण में फूलों से विशेष सज्जा की गई। दिन भर श्रद्धालुओं ने दादाजी धाम पहुंचकर समाधि पर शीश नवाकर पूजा अर्चना की। समाजसेवी सुनील जैन ने बताया कि बड़े दादाजी की ८९ वीं बरसी उत्सव में भाग लेने खंडवा के साथ ही महाराष्ट्र, पाढुंरना, नागपुर, बैतूल सहित अन्य स्थानों से भक्तगण समाधि दर्शन हेतु आए।

दादाजी की बरसी पर सोमवार को प्रात: ४ बजे समाधि स्नान, ५ बजे मंगल आरती, ८ बजे आरती, ९.३० बजे सेवा, दोपहर ३ बजे सेवादारों एवं श्रद्धालुओं ने अपने हाथों से दोनों समाधियों का गंगाजल एवं पंचामृत से स्नान एवं मालिश की। बरसी के विशेष पर्व पर रात्रि ८.३० बजे महाआरती का आयोजन भी संपन्न हुआ। जिसमें बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने उपस्थित होकर आरती में भाग लिया। इसके पश्चात श्रद्धालुओं को प्रसादी का वितरण भी किया गया। महाआरती पश्चात भक्तों के दर्शनार्थ मंदिर परिसर में वाहन चालू कर घुमाएं गए। दादाजी की बरसी पर हरिहर भवन में भी पूजा अर्चना के साथ ११ से ४ बजे तक भंडारे का आयोजन हुआ जिसमें श्रद्धालुओं ने भोजन प्रसादी ग्रहण की। सुनील जैन ने बताया कि खेड़ीघाट मां नर्मदा के तट पर स्थित दादाजी मंदिर में भी बड़े दादाजी की बरसी धार्मिक उल्लास के साथ मनाई गई। छोटे सरकार रामेश्वरदयाल महाराज द्वारा प्रतिवर्ष खेड़ीघाट पर बरसी उत्सव को लेकर सात दिवसीय कथा का आयोजन रखा जाता है। इस वर्ष भी खेड़ीघाट दादाजी मंदिर परिसर में श्री विष्णुमहारापुराण का आयोजन किया गया। जिसमें देश के बड़े संतों ने उपस्थित होकर धर्म की प्रभावना की। दादाजी की बरसी पर सोमवार को पूजन आरती के साथ रात्रि में भंडारे का आयोजन भी संपन्न हुआ। सोमवार श्री दादा दरबार खेडीघट में ७ दिवसीय विष्णुपुराण की कथा का समापन हुआ। दोपहर को सभी भक्तों ने पंगत में प्रसाद ग्रहण किया। सोमवार से २४ घंटे का अखंड दादा नाम दिंडी का मंगल प्रारंभ हुआ। मंगलवार सुबह दादाजी मंदिर में ५१ ब्राह्मणों द्वारा दादाजी चरण का अभिषेक होगा। शाम को अखंड दादा नाम का समापन होगा और शाम को १०८ दीपक से महाआरती के बाद सभी भक्त पंगत में महाप्रसादी ग्रहण करेंगे।

Check Also

22-नए-कंटेनमेंट-एरिया,-संख्या-बढ़कर-63-हुई,-यहां-आने-जाने-पर-पूरी-रोक

22 नए कंटेनमेंट एरिया, संख्या बढ़कर 63 हुई, यहां आने-जाने पर पूरी रोक

🔊 Listen to this कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़ने के साथ ही प्रशासन ने …